Ram Navami Chaitra Navaratri 2021: जाने रामनवमी 2021 अप्रैल के किस तारिक में हैं? कैसे पूजा – पाठ करना हैं? नवरात्रि में माता कैसे खुश करना हैं?

Raam Navami 2021 me kab hai? | Chaitra Navaratri 2021 me kab hai? | Navaratri me mata ki puja kaise kare aur kalashsthapna kaise kare

Ram Navami Chaitra Navaratri 2021: भारत त्योहारों का देश हैं यहाँ जीतने तरह भक्त, भक्ति और पूजा-पाठ हैं शायद की किसी और देश में होगा। भारत हिंदु-यों के लिए जाने जाना वाला देश हैं ऐसे में पूरी भक्ति-भाव और श्रद्धा से त्योहार ना मनाया जाए तो क्या मनाया। हिंदु-यों के सभी प्रमुख त्योहारों में नवरात्रि भी प्रमुख त्योहार हैं। जो बहुत ही श्रद्धा भाव के साथ देवी दुर्गा जी के नौ रूपों की पूजा की जाती हैं।

भारत में साल के चार तरह के नवरात्रि आता हैं परंतु चैत्र और शारदीय नवरात्रि मुख्य रूप से मनाया जाता हैं। राम नवमी यानि कि चैत्र नवरात्रि साल 2021में 13 शुरू होकर 21 अप्रैल को समाप्त हो रहा हैं। नवरात्रि में देवी माता दुर्गा के नौ रूपों की पूजा अर्चना की जाती हैं, नौ दिन चलने वाले इस पवन पर्व में भक्त अपने माता के लिए नौ दिन का व्रत रखते हैं, पूजा-अर्चना करते हैं और अपने मनचाहा फल मांगते हैं।

Good Friday 2021: जानिए क्यों मनाया जाता हैं गुड फ्राइडे हमेशा 2 अप्रैल क्यों हैं खास गुड फ्राइडे के लिए

माता के ये हैं नौ रूप जिनकी की जाती हैं अलग-अलग दिनों में पूजा

(पहला दिन) 13 अप्रैल, 2021 माता शैलपुत्री

(दूसरा दिन) 14 अप्रैल, 2021 माता ब्रह्मचारिणी

(तीसरा दिन) 15 अप्रैल, 2021 माता चंद्रघंटा

(चौथा दिन) 16 अप्रैल, 2021 माता कूष्मांडा

(पाचवाँ दिन) 17 अप्रैल, 2021 माता स्कंदमाता

(छठवाँ दिन) 18 अप्रैल, 2021 माता कात्यायनी

(सातवाँ दिन) 19 अप्रैल, 2021 माता कालरात्रि

(आठवां दिन) 20 अप्रैल, 2021 माता महागौरी

(नौवां दिन) 21 अप्रैल, 2021 माता सिद्धिदात्री

इस बार माता घोड़े पर सवारी करेंगी

इस बार नवरात्रि मंगलवार को शुरू हो रहा हैं। भागवत पुराण के अनुसार माता अश्व यानि घोड़े की सवारी करती हैं तो इस बार विषम प्रस्थितियाँ देखने को मिलेगी देश-दुनिया में घटनाएं घट सकती हैं। पुराण के अनुसार माता जब भी अश्व की सवारी करती हैं तब कुछ अच्छा नहीं होता हैं।

राम नवमी शुरू होने का शुभ मुहूर्त तिथि Ram Navami Chaitra Navaratri Shubh Muhurat

पंचांग के अनुसार इस बार 13 अप्रैल को मनाया जाएगा राम नवमी चैत्र मास के शुक्ल पक्ष प्रतिपदा तिथि रहेगा। इसी दिन ही नवरात्रि के घटस्थापना भी किया जाएगा।

बुधवार 21 अप्रैल, 2021 राम नवमी मुहूर्त : 11:02:08 से 13:38:08 तक, कुल समय 2 घंटे 36 मिनट का होगा।

घटस्थापना का शुभ मुहूर्त

प्रतिप्रदा तिथि शुरू होगा: 12 अप्रैल, 2021 सुबह 8:00 बजे

प्रतिप्रदा तिथि समाप्त होगा: 13 अप्रैल, 2021 सुबह 10:16 बजे

घटस्थापना का मुहूर्त: सुबह 5 बज के 58 मिनट से लेकर सुबह 10 बज के 14 मिनट तक

कुल समयावधि : 4 घंटे 16 मिनट का

घटस्थापना (कलश स्थापना) कैसे करे?

सबसे पहले सुबह उठकर स्वच्छ मन से माता का नाम फिर साफ स्नान करे फिर साफ कपड़े पहने। इसके बाद मंदिर की साफ सफाई करे, मंदर में सफेद या लाल कपड़ा बिछाए, इस कपड़े पर थोड़े चावल रखे इसके बाद एक मिट्टी के बर्तन में जौ बो दे मिट्टी के बर्तन के ऊपर पानी भरा कलश स्थापित करे। कलश पर स्वस्तिक बनाकर कलावा (रक्षासूत्र) बांधे कलश में सिक्का, अक्षत और सबूत सुपारी डालकर अशोक के पत्ते रखे। एक नारियल ले उस पर माता का नाम लेकर चुनरी लपेटकर कलावा से बांधे। अब इस नारियल को कलश के ऊपर रखते समय माता का आहवाहन करे। इसके बाद दीप जलाकर पूजा अर्चना करे। पूजा सम्पन्न करे जय माता दी।

अष्टमी और नवमी का विशेष महत्व

नवरात्रि में अष्टमी और नवमी का विशेष महत्व होता हैं इन दो दिनों मे नौ दिनों तक व्रत भक्त नौ कन्याओ को भोजन कराते हैं और माता की अनुकम्पा करते हैं।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *