भारत के सबसे घातक और जहरीले साँप जिसके काटने के बाद तुरंत काम तमाम

भारत में हर साल जहरीले सांपों के काटने के वजह से 50,000 लोगों की मौत होती हैं। भारत में कुछ ऐसे आबादी हैं जो गांवों और घने जंगलों के पास रहते हैं जिससे ये खतरा और बढ़ जाता हैं। सांप ज्यादा तर रात को निकलते हैं और गर्मियों में और बारिश के समय में इसलिए इनसे जितना हो सके बच के रहे।

भारत में सांपों की 69 से ज्यादा प्रजातियाँ पाई जाती हैं जिसमें से 40 प्रजातियाँ ऐसे हैं जिसके काटने के तुरंत बाद आदमी की मौत हो जाती हैं। कुछ ऐसे भी सांप हैं जिसके एक बार के जहर से 10 से 50 लोगों की मौत एक साथ हो सकती हैं।

भारत में ये सांप सबसे ज्यादा घातक और जहरीले होते हैं इनसे बच्च के रहिए छेड़ने की कोशिश तो कभी न करे वो हैं भारतीय कोबरा, करैत, रसेल वाइपर, सॉ-स्केलड वाइपर आइए बारी बारी से जान लेते हैं भारत में सबसे ज्यादा घातक और जहरीले सांप कौन से हैं।

भारत के सबसे घातक और जहरीले साँप

  • भारतीय कोबरा (Indian Cobra)
  • रसेल वाइपर (Russell Viper)
  • बैंडेड करैत (Banded Krait)
  • किंग कोबरा (King Cobra)
  • करैत (Common Krait)
  • सॉ-स्केलड वाइपर (Saw-Scaled Viper)
  • Trimeresurus

1. भारतीय कोबरा (Indian Cobra)

Indian Cobra

भारतीय कोबरा जिसे हम नाग कहते हैं इसके यह भारत में पाया जाने वाला एक मात्र सांप है जिसके काटने से जल्दी ही मौत होने की संभावना रहती हैं। यह कोबरा का ही प्रजाति हैं जो सिर्फ भारत, बंगलादेश पाकिस्तान, नेपाल, भूटान में देखने को मिल जाता हैं। इस सांप को आप लोग अक्सर मदारी वालों के साथ देखते होंगे।

यह सांप धान और गेंहू के खेतों में अक्सर देखे जाते हैं पत्थर के कन्दराओ और पेड़ों के कन्दराओ में भी छिपे होते हैं। ऐसे सांपों के काटने से मांसपेशिओ में लकवा मार देता हैं और हृदय तेज चलने लगता हैं इसके साथ-साथ शरीर नीला होने लगता हैं और सांस लेने में दिक्कत होने लगती हैं।

यह साँप जिसको काट ले उसको जल्द से जल्द उपचार के लिए ले जाएं नहीं मिल 15 से 20 मिनट के अंदर उपचार तो रोगी मार जाता हैं।

2. रसेल वाइपर (Russell Viper)

रसेल वाइपर (Russell Viper)

रसेल वाइपर (Russell Viper) बहुत ही जहरीला सांप हैं यह ज्यादातर और भारी मात्रा में भारत में ही पाया जाता हैं भारत से सटे देशों में भी ये कभी कभार मिल जाता हैं। यह साँप 4 फुट तक लंबे होते हैं। ऐसे सांप से बच कर रहे इसके काटने से मुख्य लक्षण दिखाई देते हैं।

रसेल वाइपर के काटने के लक्षण गुर्दे का फेल हो जाना झ काटता हैं वहाँ झाले पड जाते हैं और साथ में उलटी और मूत्र के साथ खून आने लगता हैं खून सूखने लगता हैं।

3. बैंडेड करैत (Banded Krait)

बैंडेड करैत (Banded Krait)

बैंडेड करैत (Banded Krait) ये सांप पानी और जमीन दोनों पर देखने को मिलेंगे क्योंकि जमीन पर रहकर चूहों को खाते हैं और पानी में रहकर मछलियों को खाते हैं। भारत के लगभग हिस्सों में पाए जाते हैं। ये पीले और काले रंग में ज्यादा दिखाई देते हैं।

करैत काट ले तो दम घुटना, चक्कर आना, सर में तेज दर्द होना, उलटी और पेट में तेज दर्द होने जैसे बीमारियाँ होने लगती हैं। काफी केसेस में लोग बच जाते हैं पर सही समय पर उपचार किया जाए तो। ये सांप गर्मियों में हवा लेने के लिए बाहर निकलते हैं और ज्या मात्रा में दिखाई देते हैं।

इसकी कई प्रजातियाँ हैं जिसमें धामन भी आती हैं।

4. किंग कोबरा (King Cobra)

किंग कोबरा (King Cobra)

किंग कोबरा दुनिया का सबसे लंबा विषैला सांप हैं यह तकरीबन 5 मीटर तक होते हैं। ये नाग जैसे दिखते हैं पर नाग नहीं होते हैं। इनके द्वारा काटा हुआ इंसान जल्द मर जाता हैं। ये झिपकली और दूसरे विषैले सांपों को खाता हैं जिसमें प्रमुख भारतीय कोबरा, रैटेल स्नैक, करैत, ग्रीनवहीप स्नैक ऐसे खतरनाक सांपों को खाता है।

किंग कोबरा सांप भारत और पड़ोसी देशों में देखने को मिलता हैं। यह अपने शिकार को निगलता हैं। किंग कोबरा 2 महीनों तक भूखा रह सकता हैं।

5. करैत (Common Krait)

करैत (Common Krait)

करैत (Common Krait) कोबरा का एक प्रजाति हैं जो बेहद विषैला होता है पर ये भारतीय कोबरा का प्रजाति हैं। ये 1 मीटर से लेकर 1.5 मीटर तक हो सकते हैं। करैत के काटने से ज़्यादार तर दम घुटने से लोग मरते हैं। ये भारत तालाबों, नहरों, छोटे पानी जहां गड़ही हो वहाँ भी पाया जाता हैं।

6. सॉ-स्केलड वाइपर (Saw-Scaled Viper)

सॉ-स्केलड वाइपर (Saw-Scaled Viper)

सॉ-स्केलड वाइपर (Saw-Scaled Viper) इस तरह के सांप सूखे क्षेत्रों में पाए जाते हैं ये सांप अफ्रीका, इंडिया, पाकिस्तान, श्रीलंका आदि देशों में देखा जाता हैं ये भी बहुत विषैले और घातक होते हैं भारत के चार विषैले सांपों में से एक हैं। इनके काटने से आदमी की ज्यादा मौत होती हैं।

ये सांप 1 फुट तक के होते हैं और इनकी 12 प्रजातियाँ दुनिया हर में मिली हैं। सॉ-स्केलड वाइपर रेंगने वाले जीव जैसे कि मेढक, छिपकली, बिछूँ, टिड्डे, गुबरैले आदि कीटों को खाते हैं।

ये इंसानों पर कुद कर भी हमला करते हैं जहां भी ऐसे सांप दिखाई दे इनसे जल्दी से किनारा कर ले भागने में आगे होते हैं। जहां मिट्टी की कंदराएं लकड़ी की कंदराये और घर जहां पर भूसे और उपले ज्यादा मात्रा में रखे जाते हैं वहाँ ये अपना रहने का ठिकाना बनाते हैं।

7. Trimeresurus

Trimeresurus

Trimeresurus ऐसे सांप भारत के दक्षिण भारत में ज्यादा पाए जाते हैं ये सांप लकड़ी, बांस, और हरी टहनियों पर लिपटे होते हैं। भारत में दूसरे पाए जाने वाले सांपों से अलग- अलग प्रजाति के होते हैं। पर फिर भी उनसे कम विषैले नहीं होते हैं ये भी उतना ही घातक होते हैं जितना की वाइपर के काटने से होता हैं। इनकी 50 प्रजातीय पाई गई हैं अभी तक इनकी एक प्रजाति जो की सबसे लंबी मिला हैं लगभग 2 मीटर का वैसे ये ज्यादा बड़े नहीं होते हैं आधे मीटर से 1 मीटर मे ज्यादा आते हैं। ये हरे रंग-बिरंगे होते हैं एक रंग के नहीं होते।

जहां नाम और ठंड रहे वहाँ दिखाई देते हैं किटन पतंगों को खाते हैं।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *