ISRO full form | ISRO ka full form in hindi – Indian Space Research Organization

ISRO का फूल फॉर्म Indian Space Research Organization होता है। ISRO (इसरो) का हिन्दी मे फूल फॉर्म भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन होता है। यह भारत की अंतरिक्ष एजेंसी है इसका मुख्यालय बेंगलुरू मे स्थित है। यहाँ पर अंतरिक्ष से जुड़े तथ्यों पर शोध किया जाता है। यह दुनिया के सबसे बड़ी एजेंसियों मे से एक है।

Full form of ANI News Agency | Full Form ANI

इसरो का इतिहास – History of ISRO

भारत मे अंतरिक्ष विज्ञान को जानने मे भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन का प्रमुख महत्व है। यह भारत का गर्व है। इसरो की स्थापना 1969 डॉ. विक्रम साराभाई के नेतृत्व मे किया गया। दरअसल भारत ने अंतरिक्ष मे जाने का फैसला किया गया। 1962 मे भारत सरकार द्वारा अंतरिक्ष अनुसंधान के लिए भारतीय राष्ट्रीय समिति (INCOSPAR) का गठन किया गया। INSCOPAR ने थुंबा ईक्विटोरिल रॉकेट लांचिंग स्टेशन (TERLS) का स्थापना तिरुवनंतपुरम मे किया। यह पृथ्वी के ऊपरी वायुमंडल के जानकारियों के लिए किया गया था। इसरो के निर्माण के समय साइकिल से रॉकेट और दूसरे उपकरणों को सेंटर तक लाया जाता था। आज साइकिल से बना बना हुआ इसरो दुनिया मे सबसे बड़ा अंतरिक्ष संसोधन केंद्र है।

Uidai Full form in Hindi | Uidai full form Hindi | Uidai full form

1969 मे डॉ. विक्रम साराभाई ने INSCOPAR को ISRO यानि Indian Space Research Organization मे परिवर्तित कर दिया। विक्रम साराभाई ने इसरो को लगातार आगे बढ़ाने के लिए इस पर लगातार काम करना शुरू कर दिया। बहुत सालों तक मेहनत करने के बाद आज इसरो दुनिया के छह सबसे बड़ी अंतरिक्ष एजेंसियों मे से एक है।

इसरो की उपलब्धियां – Acheivement of ISRO

इसरो भारत का अंतरिक्ष संशोधन केंद्र है इसरो ने भारत को अंतरिक्ष के क्षेत्र मे बहुत सी उपलब्धियां हासिल की है जिसके वजह से भारत का इसरो दुनिया के छह एजेंसियों मे गिन जाता है। इसरो ने चाँद पर भी कदम रखा है और मंगल ग्रह भी अंतरिक्ष मे कई सौ सेटेलाइट चक्कर लगा रहे है ये लगातार मौसम और विज्ञान संबंधी जानकारियाँ हम तक भेजते रहते है।

  • इसरो ने 1988 मे पहला सेटेलाइट लॉन्च किया। इस सेटेलाइट का नाम था INSAT और इसका काम था पृथ्वी के भू-समकालीन उपग्रहों का विस्तार करना।
  • इसरो एक ही चांस मे मंगल पर अपना रॉकेट मंगलयान पहुंचाने वाला दुनिया का पहला एजेंसी है।
  • इसरों दुनिया मे सबसे सस्ता सेटेलाइट लॉन्च करता है यह दूसरे देशों के सेटेलाइट को लॉन्च करके पैसा कमाता है।
  • इसरो ने अभी तक 104 सेटेलाइट को एक साथ लॉन्च करके दुनिया को चौका दिया था।
  • इसरो 2022 तक चंद्रयान – 3 को लांच करने वाला है
  • 2022 मे ही आदित्य L1 को लांच करेगा यह सूर्य के सौर कोरोना की जांच करेगा।
  • 2025 मे शुक्र ग्रह पर शुक्रयान भेजेगा
  • मंगलयान 2 को 2024 मे भेजेगा
  • IPC का Full Form क्या होता हैं जाने हिन्दी में

ISRO का मुख्यालय कहा स्थित है?

ISRO का मुख्यालय बेंगलुरू, कर्नाटक मे स्थित है।

Leave a Comment