एलोवेरा के चौका देने वाले गुण आप भी जानेगें तो बिना इस्तेमाल किए नहीं रह पाएंगे

पेड़-पौधे हर तरह से मानव जीवन के लिए लाभकारी सिद्ध हुए हैं। ये ही एक ऐसे दोस्त हैं तो कहीं भी आपके साथ बने रहते हैं। तो आज हम बात करेंगे ऐसे ही पौधे की जिसका मांग हमेशा से ही तरह तरह के दवाओ के लिए होता रहा हैं और आज भी और भविष्य में भी इससे और भी दवाइयाँ, कॉस्मेटिक के समान बनाते रहेंगे।

प्राचीन कल से ही पौधे जड़ी बूटी के रूप में हमारी मदद कर रहे हैं और आज भी इसी तरह इनका उपयोग करके हम कोई न कोई क्रीम बना रहे हैं। एलोवेरा भी एक ऐसा पौधा हैं जिसका उपयोग तमाम तरह की क्रीम बनाने में होता हैं।

एलोवेरा सदाबहार 12 महीने वाला पौधा हैं ये अरबी पौधा हैं किन्तु लगभग सभी तरह के जलवायु में फलत फूलता हैं जहां भी उगता हैं वहाँ जंगल की तरह फैलता हैं। इसकी खेती की जाती हैं बहुत बड़े अस्तर पर इसके औषधीय गुण के चलते।

एलोवेरा से मलहम, पेय जल, क्रीम, लोशन, सन्बर्न क्रीम, दवा आदि प्रकार के उपयोग होते हैं। एलोवेरा का अलग-अलग भाषा में अलग-अलग नाम हैं संस्कृत में घृतकुमारी कहते हैं। हिन्दी में ग्वारपाठा, घीग्वार, घीकुआँर कहते हैं।

एलोवेरा से होने वाले फायदे

  • एलोवेरा के फायदे तो बहुत से हैं एलोवेरा को आँखों पर लगाने से आखों की लालिमा कम हो जाती हैं इसके लिए आपको एलोवेरा के जेल मदद करेगा।
  • एलोवेरा का जूस बहुत फायदेमंद होता हैं कई रोगों में लाभकारी होता हैं जैसे पेट में कब्ज, गैस की समस्या, बालों का झरना, खून की कमी को भी कम करता हैं।
  • एलोवेरा का रस निकालकर उसमें शहद और नींबू मिलकर लेने से पेट में गैस से निजात मिलता हैं।
  • पीलिया हुआ हो तो 20 ग्राम एलोवेरा के जूस को 1 से 2 दिन तक पीने पर आराम मिलता हैं।
  • प्लीहा बढ़ गई हैं तो, 20 ग्राम एलोवेरा के जूस में 3 ग्राम हल्दी मिलाकर चूर्ण बनाकर खाने से दिक्कत कम होती हैं।
  • बवासीर को भी खत्म करता हैं पर खूनी बवासीर हो तो एलोवेरा का गुदा 50-60 ग्राम निकालकर इसके साथ पीस हुआ गेरू मिलाले और भस्म बना ले इस भस्म को लगोटी या किसी कपड़े की मदद से मस्से पर लगाकर बांध दे इससे मस्से खत्म हो जायेंगे और बवासीर से आराम मिलेगा।
  • घाव लग जाए तो एलोवेरा के गुदा से लेप करे इससे घाव जल्दी भरता हैं और बैक्टीरीया को साफ करता हैं।
  • एलोवेरा के रस को हरी और पत्तेदार मेहंदी में मिलाकर बालों में लगाने से बाल सिल्की और मजबूत होते हैं।
  • कड़ी धूप में जाने से पहले एलोवेरा के गुदा या जूस को रूई का इस्तेमाल कर लेप लगाये चेहरे पर ये सन्बर्न का काम करता हैं।
  • इसी तरह फटी एड़ियाँ हो तो वहाँ भी जूस को लगाकर घाव को भर सकते हैं।
  • अगर मोटापा से परेशान हैं और कोलेस्ट्राल बढ़ गया हैं तो, रोजाना एलोवेरा के जूस का पानी के साथ सेवन करे बाजार में आसानी से मिल जाता हैं मोटापा से झुटकारा मिलेगा।
  • लिंग के छालों पर एलोवेरा के जूस के साथ पिसे हुवे जीरा का लेप लगाने से छाले कम होते हैं।
  • चेचक के घाव पर एलोवेरा के गुदा को लेकर घाव पर लेप करे इससे घाव पर ठंडक मिलेगा और घाव का दर्द दूर रहेगा।
  • कान के दर्द से राहत मिलेगा जब एलोवेरा के 2 से 3 बूँद जूस को कान में डालेंगे तब।
  • मासिक धर्म के दौरान 10 से 15 ग्राम एलोवेरा के गुदा को 500 ग्राम पलाश का झार एक साथ मिलकर लेने से मासिक धर्म कई परेशानियाँ कम होती हैं।

एलोवेरा से होने वाले नुकसान

जहां एलोवेरा के इतने फायदे भी हैं तो वहाँ इतने नुकसान भी हैं बस समझना इतना हैं किसी भी चीज का जरूरत से ज्यादा सेवन न करे और चिकित्सक से परामर्श लेकर सेवन करे। बाजार से नकली एलोवेरा लेने से बचे।

  • एलोवेरा के जूस को जरूरत से ज्यादा पीने से एलर्जी का सामना करना पड़ सकता हैं। जिसके अलग ही प्रभाव होते हैं जैसे की खुजली, रेसेस, साँस लेने में परेशानी जैसे तमाम दिक्कत होती हैं।
  • अगर आप pregnant हैं तो भूल कर भी एलोवेरा के सेवन न करे इसक बड़े दुष्प्रभाव हो सकता हैं जैसे की गर्भपात होने का डर रहता हैं इसके साथ-साथ दूध पिलाने वाली माँ को भी एलोवेरा का जूस या किसी तरह के सेवन से बचना चाहिए।
  • एलोवेरा के सेवन से लो ब्लडप्रेशर तो होता हैं पर लो ब्लडप्रेशर वाले सेवन नहीं करे।
  • सुबह-सुबह ज्यादा इसका जूस पीने से डिहाइड्रेशन होने लगता हैं जिसक खातिर कम से कम सेवन करे और रोजाना पीने से बचे।
  • एलोवेरा न नियमित सेवन शरीर के potassium को घटा देता हैं जिससे साँस लेने में दिक्कत और धड़कने फसने लगती हैं।
  • एलोवेरा में लैटेक्स की मात्रा ज्यादा होती हैं जो मांसपेशियों को कमजोर करती हैं।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *